7 Oct 2017

खिड़कियों की कहानियां.


ये खिड़कियों की कहानियां है,
इन्हें पढ़ कर तो देखो,
किवाड़े खोल कर,
इनके पन्ने पलट कर तो देखो।

कभी अपने दिखते है,
कभी सपने देखते है,
और कभी कभी
अपनो के सपने दिखते है।

कभी उम्मीदे दिखती है,
कभी अरमाँ दिखते है,
और कभी कभी,
तजुर्बे दिखते है।

ये खिड़कीय की कहानियां है,
इन्हें समझ कर तो देखो,
किवाड़े खोल कर,
इनके पन्ने पलट कर तो देखो।

In Picture, A window of city palace, leh.

0 comments:

Post a Comment

Hey there! What do you think about this post?