11 Dec 2017

परिंदे


परिंदे

ख्वाब देखता आया हु तफुलियत से,
परिंदो जैसी उड़ान भरने के।
आज जब हवा में पर फड़फड़ा रहे है,
याद आता है ज़मीं पर चलना।
 

0 comments:

Post a Comment

Hey there! What do you think about this post?